Home » दीपावली

दीपावली

दीपावली का अर्थ है – दीपों की पंक्तियां।

दीपावली के दिन प्रत्येक घर दीपों की पंक्तियों से शोभायमान रहता है।

दीपों और बिजली की रोशनी से घर का कोना-कोना प्रकाशित हो उठता है। इसलिए दीपावली को रोशनी का पर्व भी कहा जाता है।

इस दिन सभी को आरोग्य, धन, ज्ञान, शांति, शौर्य प्राप्त हो इसलिए देवताओं को श्रद्धासुमन अर्पण करते हुए दीप प्रज्वलित किया जाता है।

दीप यह एक सकारात्मकता का प्रतिक है।

अंधकार रूपी नकारात्मकता/ अज्ञानता को दूर करने के लिए सकारात्मकता/ज्ञान का दीप जलाया जाता है।

दीप प्रज्वलित करना यह सभी तरह की बुराइयों को नष्ट करने का प्रतिक है।

दीपावली का त्यौहार पांच दिन मनाया जाता है।

पहला दिन -धन त्रयोदशी।

दूसरा दिन- नरक चतुर्दशी। शास्त्रों के अनुसार इस दिन जो लोग घरों में दीप प्रज्वलित करते है वे नरक अर्थात अधोगति में नहीं जाते.

तीसरा दिन- लक्ष्मी पूजन. इस दिन लक्ष्मी (धन-देवता) की पूजा की जाती है। जो लोग इस दिन लक्ष्मी पूजा करते है, उनके घरों में लक्ष्मी यानि संपत्ति ठहरती है।

चौथा दिन- गोवर्धन पूजा का दिन।

पांचवा दिन- भाई दूज। यह दिन बहन-भाई पवित्र रिश्ते का दिन।

भारत के सभी धर्म-संप्रदाय दीपावली मनाते है- हिन्दू, जैन, सीख, बौद्ध सभी की अपनी अपनी मान्यताये है, उसके अनुसार वे दीपावली का पर्व मानते है।

Advertisements